जो बाइडेन ने किआ डोनाल्ड ट्रंप को सलाम। |US Election|

जो बाइडेन अमेरिका के ४६वे राष्ट्पति बन गए है। बाइडेन की शपथ के साथ ही डोनाल्ड ट्रम्प की वाइट हाउस से बिदाई हुई और बाइडेन का वाइट हाउस में ग्रह प्रवेश हुआ इसी महीने हिंसा के तोर पर लोकतंत्र की चुनोतियो से जूझते सबसे पुराने लोकतांत्रिक देश की कमान सभालते ही बाइडेन ने डेमोक्रेसी पर पूर्व राष्ट्पति डोनाल्ड ट्रम्प को सलाम किआ ।

जो बाइडेन ने किआ डोनाल्ड ट्रंप को सलाम।
जो बाइडेन ने किआ डोनाल्ड ट्रंप को सलाम।



जो बाइडेन ऐसे वक्त में अमेरिका के राष्ट्पति बने है जब अमेरिकी लोकतंत्र का सिस्टम खुद उसी के लोगो से खतरे में है।

ऐसे में अविस्वास इस संक्रमण को दूर करने के लिए जो बाइडेन ने डेमोक्रेसी की वैक्सीन लगाने का इरादा जताया उन्हीने अपने भासड मे कहा ” आज हम एक उमीदवार की जीत का जश्न नही मना रहे है। बल्कि लोकतंत्र के लिए जश्न मना रहे है।”


जो बाइडेन को जज जस्टिस जॉन रोबर्ट ने सपथ दिलाई उन्होंने अपने परिवार की बाइबल पर हाथ रख के शपथ ली। और लोगो को याद दिलाया कि अमेरिकी ड्रीम के लिए लोकतंत्र कितना जरूरी है।


जो बाइडेन ने कहा कि ” हमें एक बार फिर इस बात का एहसास हो गया कि लिकतंत्र बहुमूलिय है और इन चुनोतियो के बीच लोकतंत्र एक बार फिर कामयाब हुआ है।” वाशिंगटन में हुआ यह शपथ ग्रहड़ के मायनो में अनोखा था।जिस में जनता की जगह जंडे थे शपथ ग्रहड़ में एक अजीब सी खामोशी थी। और कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग ।


बाइडेन के शपथ ग्रहड़ ने १२०० लोग ही शामिल हुए थे। असली रिकॉर्ड तो टोनॉल्ड ट्रम्प ने बनाया जो शपथ ग्रहण से नदान्त रहे।

जो बाइडेन ने किआ डोनाल्ड ट्रंप को सलाम।
जो बाइडेन ने किआ डोनाल्ड ट्रंप को सलाम।



नए राष्ट्पति के शपथ ग्रहड़ में शामिल ना होने वाले डोनाल्ड ट्रंप ४थे राष्ट्पति बन गए है।

बाइडेन के शपथ लेने से पहले ही डोनाल्ड ट्रम्प वाइट हाउस छोड़ कर हेलीकाप्टर लेके इंद्रिउस पहुचे और वहा से सरकार की पीठ ठोककर फ्लोरिडा के अपने रिसोर्ट के लिए रवाना हो गए। डोनाल्ड ट्रंप की इस बेरुखी के बावजूद जो बाइडेन ने उनका नाम लिए बिना जिक्र किया बल्कि उन्हें सलाम भी किआ ।


बाइडेन ने कहा कि कुछ दिन पहले यहाँ captial की बुनियाद को हिला दिया था। जबकि २०० साल सत्ता का शान्ति पूड हस्तांतरण हो रहा था।


बाइडेन ने कहा कि में दोनों दलों के राष्ट्रपति के सुक्रिया अदा करना चाहूंगा और उस प्रेसिडेंट को भी सलाम जो यहाँ नही आये लेकिन उन्हें अमेरिका की सेवा करने का मीका मिला।


इस खबर में इतना है बने रहिये Teckguy.in के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: